Home » इंडिया » Gujarat: Swearing-in ceremony of the new Council of Ministers is underway at Raj Bhavan in Gandhinagar
 

गुजरात: भूपेंद्र पटेल सरकार का कैबिनेट विस्तार, कई मंत्रिमंडल में पुराने मंत्रियों को नहीं मिली जगह

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 September 2021, 14:26 IST

गुजरात की भूपेंद्र पटेल सरकार का गुरुवार को कैबिनेट विस्तार किया गया. इससे पहले बुधवार को कैबिनेट विस्तार को किन्ही कारणों से स्थगित कर दिया गया था. गुजरात की राजधानी गांधीनगर स्थित राजभवन में राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने राज्य के नए मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल के मंत्रिमंडल को शपथ दिलाई. सबसे बड़ी बात यह है कि नए मंत्रिमंडल में किसी पुराने मंत्री को जगह नहीं दी गई है.

पटेल सरकार के कैबिनेट में शामिल किए गए ये मंत्री


भूपेंद्र पटेल की कैबिनेट में कनुभाई देसाई और नरेश पटेल और गणदेवी को शामिल किया गया है. इनके अलावा लिंबडी से विधायक किरीट सिंह राणा, मोरबी सीट से ब्रजेश मेरजा ने भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है. ऋषिकेश पटेल, राघवजी पटेल और अरविंद रैयाणी भी मंत्री बनेंगे. महिलाओं में मनीषा वकील और निमिषा सुतार का भी मंत्री बनना तय माना जा रहा है. मुख्यमंत्री ऑफिस ने मिली जानकारी के मुताबिक, सीएम भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की पहली कैबिनेट बैठक आज शाम 4.30 बजे राजधानी गांधीनगर में होगी. कहा जा रहा है कि इस बैठक के बाद सभी मंत्रियों के विभागों का ऐलान हो जाएगा.

गुजरात की नई सरकार में किसी पुराने मंत्री को फिर से मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है. यही नहीं पूर्व उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल की भी छुट्टी कर दी गई है. नए मंत्रिमंडल में हर समुदाय का ध्यान रखा गया है. जानकारी के मुताबिक, आज 24 मंत्रियों ने शपथ ली है. जिनमें 9 कैबिनेट दर्ज के मंत्री शामिल हैं. जबकि 15 को राज्य मंत्री का दर्जा मिला है.

इन्हें बनाया गया मंत्री

गुजरात सरकार के पहले मंत्रिमंडल विस्तार में पारणी से विधायक कनुभाई देसाई, गणदेवी विधानसभा से नरेश पटेल, लिंबडी से विधायक किरीट सिंह राणा, मोरबी सीट से ब्रजेश मेरजा, जामनगर ग्रामीण सीट से राघवजी पटेल , ऋषिकेश पटेल और अरविंद रैयाणी को मंत्री बनाया गया है. वहीं अगर बात करें महिला मंत्री को तो भूपेंद्र पटेल सरकार में मनीषा वकील और निमिषा सुतार को मंत्री बनाया गया है.

Coronavirus Update: देश में फिर बढ़ा कोरोना का ग्राफ, पिछले 24 घंटे में आए 30 हजार से ज्यादा केस, 431 की मौत

बता दें कि गुजरात विधानसभा की 182 सीटों के लिए अगले साल दिसंबर चुनाव होने है. ऐसे में बीजेपी आलाकमान किसी भी हाल में कोई रिस्क नहीं लेना चाहता और पुराने मंत्रियों को हटाकर सरकार की नई छवि पेश करना रणनीति का हिस्सा है. हाईकमान को उम्मीद है कि पुराने मंत्रियों को हटाकर नए मंत्रियों को शामिल करने को लेकर जारी विरोध भी कुछ समय में थम जाएगा और सब मिलकर भूपेंद्र पटेल के नेतृत्व में जोर-शोर से काम शुरू कर देंगे. जिसका फायदा आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को होगा.

लेबर कोड के नियमों में हो सकता है बदलाव, हफ्ते में चार दिन काम करने की मिल सकती है मंजूरी

First published: 16 September 2021, 14:26 IST
 
अगली कहानी