Home » इंडिया » Taliban government in Afghanistan: India refuses to accept Taliban government in Afghanistan
 

भारत का अफगानिस्तान की तालिबान सरकार को मानने से इनकार, विदेश मंत्री ने कही ये बड़ी बात

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 September 2021, 19:59 IST

अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार बनने के बाद भारत ने पहली बार सख्त कदम उठाते हुए तालिबान सरकार को मानने से इंकार कर दिया है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने साफ कर दिया कि वो तालिबान की नई सरकार को एक व्यवस्था से ज्यादा कुछ नहीं मानते. जिसमें सभी वर्गों के शामिल ना होने से चिंता हो. उन्होंने अफगानिस्तान में महिलाओं और अल्पसंख्यकों के हालात को लेकर भी खासी चिंता जताई है. विदेश मंत्री एस जयशंकर ने साफ तौर से कहा कि भारत चाहता है कि अफगानिस्तान की धरती को आतंकवाद के लिए इस्तेमाल न किया जाए. इसको लेकर भारत ने ऑस्ट्रेलिया से संयुक्त राष्ट्र के 2593 विधेयक को लागू करने को लेकर चर्चा की है.

बता दें कि इस विधेयक के तहत किसी भी देश को आतंकवाद को बढ़ावा देने से रोकने पर जो दिया जाता है. बता दें कि शनिवार को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुई टू प्लस टू मीटिंग के बाद विदेश मंत्री ने मीडिया को संबोधित करते हुए ये बातें कहीं. इस मीडिया कॉन्फ्रेंस के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मेरी पायने और रक्षा मंत्री पीटर ड्यूटन भी मौजूद थे. इस दौरान विदेश मंत्री बताया कि ऑस्ट्रेलिया के साथ टू प्लस टू मीटिंग में अफगानिस्तान में डिंस्पेनशेसन (व्यवस्था) के इनक्लुसिवनेस यानि समावेशीकरण और महिलाओ-अल्पसंख्यकों के हालात पर चर्चा हुई.


वहीं ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मेरी पायने ने भी दोहराया कि अफगानिस्तान की धरती को आतंकियों की पैदावर के लिए इस्तेमाल नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में मानवधिकारों का हनन नहीं होना चाहिए. अफगानिस्तान में मानवीय सहायता को लेकर उन्होंने टू प्लस टू मीटिंग में भारत से चर्चा की है. बता दें कि शनिवार को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहली टू प्लस टू मीटिंग हुई. जिसमें दोनों देशों के रक्षा और विदेश मंत्रियों ने चर्चा की. दोनों देशों के बीच हुई पहली टू प्लस टू मीटिंग का आयोजन दिल्ली में किया गया.

Chandrayaan 2: फेल लैंडिंग के बाद भी चंद्रयान-2 ने उपलब्ध कराया महत्वपूर्ण डाटा, जलीय बर्फ और बाहर ज्वालामुखी के दिए सबूत

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि अमेरिका के लिए आज 9/11 हमले की 20वीं जयंती है. ये हमला याद दिलाता है कि हमें आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में कोई भी समझौता नहीं करना चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत तो इसलिए भी नहीं कर सकता है क्योंकि आतंकवाद का केंद्र हमारे करीब है. वहीं ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री मेरी पायने ने भी कहा कि हमारे मित्र-देश ऑस्ट्रेलिया पर हुए 9/11 हमले को हम कभी भुला नहीं सकते.

COVID-19 Update: केरल में कोरोना के मामलों में आई कमी, देशभर मे पिछले 24 घंटों में आए 38 हजार नए केस

First published: 11 September 2021, 19:59 IST
 
अगली कहानी