Home » इंडिया » Tripura: Clashes between BJP and Left's student organisation, many injured and vehicles burn
 

त्रिपुरा: बीजेपी और लेफ्ट के छात्र संगठन में हिंसक छड़प, तोड़फोड़ और आगजनी की घटना में कई घायल

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 September 2021, 8:58 IST

पूर्वोत्तर के राज्य त्रिपुरा में एक बार फिर से बीजेपी और लेफ्ट से जुड़े छात्र संगटन के बीच हिंसक झड़प हुई है. आगजनी और तोड़फोड़ की घटना में कई लोगों के घायल होन की खबर है. बताया जा रहा है कि गोमती जिले में बीजेपी और लेफ्ट से जुड़े छात्र संगठन डीवाईएफआई (DYFI) के बीच हिंसक झड़प हुई है. स्थानीय मीडिया के अनुसार, ये घटना तब शुरु हुई जब सीपीएम की छात्र इकाई एक रैली निकाल रही थी, इसी दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ उनकी झड़प हो गई. इस हिंसक झड़प में बीजेपी का एक कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हुआ है. जबकि लेफ्ट के भी दो-तीन घायल हो गए हैं. इस हिंसा के बाद अब दोनों पार्टियों ने एक दूसरे पर आरोप लगाने शुरु कर दिए हैं.

बता दें कि त्रिपुरा के गोमती जिले के उदयपुर शहर में उस वक्त उपद्रव शुरु हुआ जब माकपा की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया एक जुलूस निकाल रही थी. इस दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने बीजेपी के कार्यकर्ता पर कथित तौर पर हमला किया. जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए. पुलिस का कहना है कि पास में ठहरे बीजेपी कार्यकर्ताओं के एक समूह ने जवाबी कार्रवाई करते हुए डीवाईएफआई के जुलूस पर हमला किया और उसके बाद तोड़फोड़ आगजनी शुरु हो गई. इस हिंसक झड़प के बाद सीपीएम नेता सीताराम येचूरी ने आगजनी का एक वीडियो ट्वीट करके बीजेपी पर आरोप लगाया.


पुलिस के मुताबिक इस हिंसक झड़प में दो से तीन लोग घायल हुए हैं, लेकिन उनकी राजनीतिक संबद्धता का पता नहीं चल पाया है. सूत्रों के मुताबिक, उदयपुर झड़प के बाद अगरतला, विशालगढ़ और कथलिया में माकपा के पार्टी कार्यालयों में भी तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई. दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच सोमवार को पहले दौर की हिंसा के बाद झड़पें शुरु हुई थीं. जब त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री माणिक सरकार को कथित तौर पर धनपुर जाने से रोका गया था.

पुलिस के मुताबिक, उदयपुर के घायल बीजेपी कार्यकर्ता को गंभीर हालत में अगरतला के जीबी पंत अस्पताल में रेफर कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि भीड़ को तितर-बितर करने और उपद्रव रोकने के लिए पुलिस की एक बड़ी टुकड़ी को तैनात करना पड़ा है. अधिकारियों ने यह भी कहा कि अज्ञात उपद्रवियों के एक समूह ने माकपा के उदयपुर पार्टी कार्यालय में भी तोड़फोड़ की, जबकि पूर्व वाम मोर्चा मंत्री रतन भौमिक के एक वाहन को आग लगा दी गई. इस हिंसक झड़प के तुरंत बाद कृषि मंत्री प्रणजीत सिंह रॉय मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया.

अफगानिस्तान में तालिबान सरकार को लेकर फारुख अब्दुला ने दिया ये विवादित बयान

मीडिया से बातचीत के दौरान रॉय ने कहा कि माकपा की युवा शाखा ने पुलिस से पूर्व अनुमति लिए बिना एक रैली निकाली थी. सरकार हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी. इस बीच, केंद्रीय राज्य मंत्री प्रतिमा भौमिक ने हिंसा के विरोध में सोनामुरा उपमंडल के धनपुर में एक विरोध मार्च का नेतृत्व किया. बाद में शाम को बीजेपी सदर जिला इकाई ने राजधानी अगरतला में भी एक विरोध रैली निकाली गई.

बीजेपी के 5 राज्यों में चुनाव प्रभारियों के ऐलान के बीच उत्तराखंड की राज्याप का इस्तीफा

First published: 9 September 2021, 8:58 IST
 
अगली कहानी