Home » इंडिया » Within a year, the third major terrorist module busted, Kerala, Bengal and UP
 

एक साल के भीतर तीसरे बड़े आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, केरल, बंगाल और अब यूपी

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 July 2021, 7:56 IST

 

रविवार को लखनऊ में आतंकी संगठन अल-कायदा से जुड़े तीन लोगों की गिरफ्तारी के साथ ही देश एक साल के भीतर तीसरे बड़े आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ हुआ है. पिछले साल सितंबर में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने पश्चिम बंगाल और केरल में अल-कायदा के नौ आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था. एजेंसी ने कहा कि ये आतंकवादी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) समेत देश में कई जगहों पर हमले की योजना बना रहे थे.

एक रिपोर्ट के अनुसार आतंकी गुर्गों को केरल के एर्नाकुलम और पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से गिरफ्तार किया गया था. एनआईए ने कहा कि उनके ठिकानों में कोच्चि नेवल बेस और शिपयार्ड शामिल हैंएजेंसी ने इनके पास से हथियार और बम बनाने की सामग्री जब्त की है. एनआईए ने कहा कि मुर्शिदाबाद के छह और एर्नाकुलम के तीन लोग लोन वुल्फ हमले की योजना बना रहे थे.


जांचकर्ताओं ने आगे कहा कि इन लोगों को अल-कायदा के आतंकवादियों ने सोशल मीडिया पर कट्टरपंथी बना दिया था और उन्हें भारत में कई स्थानों पर हमले करने के लिए प्रेरित किया गया था. लखनऊ की गिरफ्तारी में भी उत्तर प्रदेश के आतंकवाद निरोधी दस्ते (एटीएस) ने दो आधा -तैयार आईईडी-आधारित प्रेशर कुकर बम और विस्फोटक सामग्री सहित आपत्तिजनक सामग्री बरामद की है.

रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार ऑपरेटिव - मिन्हाज अहमद (30) और मसीरुद्दीन (50) - लखनऊ में रह रहे थे और अल कायदा से जुड़े अंसार गजवतुल हिंद (Ansar Ghazwatul Hind) से जुड़े थे. मिन्हाज अहमद के पिता लखनऊ के दुबग्गा इलाके में मोटर वर्कशॉप चला रहे हैं. उत्तर प्रदेश पुलिस के अनुसार ये लोग अल-कायदा के उत्तर प्रदेश मॉड्यूल के प्रमुख उमर हलमंडी के हैंडलर के संपर्क में थे.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने कहा "वे लखनऊ सहित राज्य के विभिन्न शहरों में 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) से पहले आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की योजना बना रहे थे." कुमार ने कहा कि ये लोग मानव बमों के इस्तेमाल सहित विस्फोट की योजना बना रहे थे.

लखनऊ में अलकायदा से जुड़े दो आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद बिहार पुलिस ने रविवार को सभी जिलों और रेलवे स्टेशनों पर अलर्ट जारी कर दिया है. सीमा सुरक्षा बल (BSF) के पूर्व अतिरिक्त महानिदेशक और सुरक्षा मामलों के विशेषज्ञ पीके मिश्रा ने बताया कि अल-कायदा के स्लीपर सेल देश के कई हिस्सों में मौजूद हैं. मिश्रा ने कहा "हमें उनके संचालकों को उनकी फंडिंग रोकने और नेटवर्क को ध्वस्त करने के लिए कहना होगा."

First published: 13 July 2021, 7:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी