Home » इंटरनेशनल » Earthquake in southern Asia, 4.2 magnitude hits Afghanistan capital Kabul and Baluchistan in Pakistan
 

भूकंप के झटकों से थर्राया पाकिस्तान और अफगानिस्तान, कई इमारतों के ढहने की खबर, करीब 20 लोगों की मौत

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 October 2021, 9:57 IST

पाकिस्तान का बलूचिस्तान और अफगानिस्तान की राजधानी काबुल गुरुवार सुबह भूकंप के जबरदस्त झटकों थर्रा गई. पाकिस्तान में भूकंप के झटके इतने तेज थे कि यहां कई इमारतें ध्वस्त हो गईं जिसमें करीब 20 लोगों के मरने की खबर है. बता दें कि भूकंप के यह झटके पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत के हरनई में आए. रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6 दर्ज की गई, जिसकी वजह से कई इमारत और मकानों को नुकसान पहुंचा है. इसमें 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं. नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, यह भूकंप सुबह लगभग 3:30 बजे आया, उस वक्त लोग अपने घरों में गहरी नींद में सो रहे थे.

भूकंप के बाद आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के महानिदेशक नसीर नासिर ने रॉयटर्स से कहा कि, “आज सुबह दक्षिणी पाकिस्तान में आए भूकंप में कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई और 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं.” बताया जा रहा है कि इस भूकंप में अभी तक 20 लोगों की मौत हुई है लेकिन मरने वालों की संख्या में इजाफा होने से इनकार नहीं क्या जा सकता. बता दें कि हरनई पाकिस्तान के बलूचिस्तान में आता है. यहां आए भूकंप की तीव्रता काफी तेज थी जिससे आसपास के कई जिलों में भी नुकसान होने की खबर है. इस भूकंप का असर पड़ोसी देश अफगानिस्तान समेत उज्बेकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान में भी देखने को मिला है. पाकिस्तान सरकार में मंत्री मीर जिया उल्लाह ने कहा कि बचाव-अभियान जारी है, मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती है. घायलों को बलूचिस्तान प्रांत के हरनई के अस्पताल में भर्ती कराया गया है.


पाकिस्तान के बाद अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए. बताया जा रहा है कि काबुल के उत्तर-पूर्व में भी गुरुवार की सुबह करीब 6:40 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए. रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 4.2 थी. हालांकि यहां से अभी तक कही से भी जानमाल के नुकसान की खबर नहीं आई है. अफगानिस्तान के काबुल में इससे पहले 17 अगस्त को भूकंप के झटके महसूस किए गए थे.

अफगानिस्तान: पिता पर शक होने पर तालिबान ने दी बेटे को सजा, बेरहमी से उतारा मौत के घाट

रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 4.5 रही. ये झटके अफगानिस्तान के बजारक के 38 किलोमीटर उत्तर-पूर्व में महसूस किए गए. बजारक के पास भूकंप का केंद्र था और इसकी गहराई 92 किमी रही. हालांकि, भूकंप की वजह से किसी भी तरह के जान-माल का नुकसान नहीं हुआ था. बता दें कि इससे पहले अक्टूबर 2015 में, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में 7.5-तीव्रता वाले भूकंप आया था. जिसमें करीब 400 लोगों की जान चली गई थी. पाकिस्तान में 8 अक्टूबर, 2005 को 7.6-तीव्रता का भूकंप आया था.

भारत के साथ डिप्लोमेसी शुरु करना चाहता है तालिबान, विमान सेवा शुरु करने के लिए लिखी DGCA को चिट्ठी

First published: 7 October 2021, 9:57 IST
 
अगली कहानी