Home » इंटरनेशनल » Effect of epidemic: 10 lakh children did not take admission in schools in a country like America
 

महामारी का असर : अमेरिका जैसे देश में 10 लाख बच्चों ने नही लिया स्कूलों में एडमिशन

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 August 2021, 9:07 IST

कोरोना वायरस महामारी (Covid-19) के बीच अमेरिका में इस साल 10 लाख से अधिक बच्चों ने बच्चों ने स्कूलों में एडमिशन नहीं लिया. न्यूयॉर्क टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में सरकारी आंकड़ों के हवाले से बताया है कि किंडरगार्टन स्कूलों में प्रवेश में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है.

रिपोर्ट के अनुसार NYT और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी ने 33 राज्यों के 70,000 सरकारी स्कूलों के एनरोलमेंट डेटा का विश्लेषण किया. इसमें पाया गया कि 2020 में 10,000 स्थानीय पब्लिक स्कूलों ने अपने किंडरगार्टर्स का कम से कम 20 प्रतिशत खो दिया है.

रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना वायरस महामारी के कारण अमीर और गरीब के बीच बढ़ती असमानता को और उजागर करते हुए डेटा विश्लेषण से पता चला है कि प्रवेश में गिरावट गरीबी रेखा से नीचे या उसके पास रहने वाले क्षेत्रों में हुई है. इन क्षेत्रों में चार सदस्यों के परिवार की औसत वार्षिक आय 25 लाख या उससे कम है.


रिपोर्ट के मुताबिक ऐसे इलाकों में देश के बाकी हिस्सों की तुलना में 28 फीसदी ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है. कोरोना वायरस महामारी ने दुनिया भर में 4,293,530 लोगों की जान ले ली है. अकेले अमेरिका में इस वायरल बीमारी से अब तक 616,828 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 3.5 करोड़ से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं.

NYT की रिपोर्ट के अनुसार फिलाडेल्फिया (Philadelphia)स्कूल जिले में, जहां अधिकांश छात्र पहले से ही कम आय वाले परिवारों से हैं, 2019 और 2020 के बीच प्रारंभिक शिक्षा में प्रवेश में 25 प्रतिशत से अधिक की कमी आई है.

कई अमेरिकी राज्यों में किंडरगार्टन स्कूल वैकल्पिक हैं, हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि किंडरगार्टन में सीधी शिक्षा बच्चों के लिए फायदेमंद है क्योंकि इन स्कूलों में ऑटिज़्म जैसे बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास को प्रभावित करने वाली स्थितियों का आमतौर पर पता लगाया जाता है.

UN रिपोर्ट में खुलासा: तानाशाह किम जोंग उन ने जारी रखा है परमाणु बम और बैलिस्टिक मिसाइल बनाना

First published: 9 August 2021, 8:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी