Home » धर्म » Chhath Puja 2021: Know here Chhath Puja Vidhi Nahay Khay timing and Samagri list
 

Chhath Puja 2021: छठ पूजा में जरूरी शामिल करें ये सामग्री, इस विधि से करें छठी मईया की पूजा

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 November 2021, 15:18 IST

Chhath Puja 2021: छठ पूजा का त्योहार विशेष रूप से पूर्वांचल और बिहार में मनाया जाता है. हालांकि अब दिल्ली-एनसीआर के अलावा देश के अन्य राज्यों में भी छठी मईया का पूजन किया जाने लगा है. छत पर्व कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि से शुरु होता है और शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को छठ महापर्व मनाया जाता है.  यह पर्व का आयोजन तीन दिनों तक होता है. छठ के दौरान महिलाएं लगभग 36 घंटे का व्रत रखती हैं. छठ पर्व के दौरान छठी मईया और सूर्यदेव की पूजा-अर्चना की जाती है. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, छठी मईया सूर्य देव की मानस बहन हैं. दिवाली के छह दिनों बाद मनाया जाने वाला ये त्योहार इस बार 8 नवंबर से शुरु होगा. छठ महापर्व 4 दिनों तक मनाया जाता है. जिसकी शुरुआत नहाय- खाय से शुरु होती है.

किस दिन किया जाएगा नहाय- खाय


छठ पर्व की शुरुआत 8 नवंबर को नहाय- खाय से होगी. नहाय खाय के दिन पूरे घर की साफ- सफाई की जाती है और स्नान करने के बाद व्रत का संकल्प लिया जाता है. इस दिन चना दाल, कद्दू की सब्जी और चावल का प्रसाद ग्रहण किया जाता है और अगले दिन खरना से व्रत की शुरू किया जाता है.

क्या है खरना

छठ पर्व के दूसरे दिन खरना किया जाता है. इस बार खरना 9 नवंबर से किया जाएगा. इस दिन महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं और शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ वाली खीर का प्रसाद बनाती हैं. उसके बाद सूर्य देव की पूजा करने के बाद इस प्रसाद को ग्रहण किया जाता है. इसके बाद व्रत का पारणा छठ के समापन के बाद ही किया जाता है.

खरना के अगले दिन दें सूर्यदेव को अर्घ्य

खरना के अगले दिन शाम को महिलाएं किसी नदी या तालाब में खड़ी होकर भगवान सूर्य देव को अर्घ्य देती हैं. इस साल 10 नवंबर यानी बुधवार की शाम को सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा.

किस दिन होगा छठ पर्व का समापन

खरना के अगले दिन छठ पर्व का समापन किया जाता है. इस साल 11 नवंबर यानी गुरुवार को छठ महापर्व का समापन किया जाएगा. इस दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले ही नदी या तालाब के पानी में उतर जाती हैं और सूर्यदेव से प्रार्थना करती हैं. इसके बाद उगते सूर्य देव को अर्घ्य देने के बाद पूजा का समापन किया जाता है और व्रत का पारणा किया जाता है.

छठ पूजा में जरूर शामिल करें ये सामग्री

छठ पूजा में कुछ सामग्री का होना बहुत जरूरी होता है. जिसमें प्रसाद रखने के लिए बांस की दो तीन बड़ी टोकरी,  बांस या पीतल के बने तीन सूप, लोटा, थाली, दूध और जल के लिए ग्लास, नए वस्त्र साड़ी-कुर्ता पजामा, चावल, लाल सिंदूर, धूप और बड़ा दीपक, पानी वाला नारियल, गन्ना जिसमें पत्ता लगा होना चाहिए.

घर के किचन में कभी खत्म नहीं होनी चाहिए ये चीजें, परिवार में आ जाता है आर्थिक संकट

सुथनी और शकरकंदी, हल्दी और अदरक का पौधा हरा हो तो अच्छा, नाशपाती और बड़ा वाला मीठा नींबू या टाब भी रखना जरूरी होता है. इसके अलावा छठ पूजा के लिए शहद की डिब्बी, पान और साबुत सुपारी, कैराव, कपूर, कुमकुम, चन्दन, और मिठाईयां जरूर रखी जाती है. इनमें से किसी एक के न होने पर छठ पूजा अधूरी मानी जाती है.

किसी के भी साथ कभी शेयर न करें अपनी ये बातें, वरना जिंदगी में आना शुरु हो जाएंगी परेशानियां

First published: 8 November 2021, 11:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी