Home » धर्म » Shri Krishna Janmastami 2021: Shri Krishna Janmashtami is celebrated across the country today, rare coincidence is made after 101 years in J
 

Shri Krishna Janmastami 2021: देशभर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की धूम, इस बार कान्हा के जन्म पर बना है ये दुर्लभ संयोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 August 2021, 8:58 IST

Shri Krishna Janmastami 2021: देशभर में आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी धूमधाम से मनाई जा रही है. भगवान कृष्ण के मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी हुई है और उन्हें भव्य तरीके से सजाया गया है. ज्योतिष शास्त्र की गणना के मुताबिक, इस बार जन्माष्टमी पर एक दुर्लभ संयोग बन रहा है. ये संयोग 101 साल बाद पर बन रहा है. इस साल इसी जयंती योग में जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जा रहा है. श्रीमद्भागवत पुराण के मुताबिक, भगवान श्रीकृष्ण जी का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि, दिन सोमवार, रोहिणी नक्षत्र व वृष राशि में मध्य रात्रि में हुआ था.

ज्योतिष शास्त्र की गणना के मुताबिक, इस बार भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी सोमवार 30 अगस्त, भाद्र मास कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जा रही है. इस दौरान चंद्रमा वर्ष राशि में रहेंगे. रोहिणी नक्षत्र का प्रवेश भी 30 अगस्त को सुबह 6 बजकर 49 मिनट पर शुरु हो चुका है और अष्टमी तिथि भी सोमवार की मध्यरात्रि 12 बजकर 24 मिनट तक रहेगी. उसके बाद नवमी तिथि लग जाएगी. इस प्रकार से देखें तो अष्टमी तिथि, रोहिणी नक्षत्र और सोमवार दिन तीनों का एक साथ मिलना दुर्लभ है. ज्योतिषीय गणना के मुताबिक ये संयोग 101 साल बाद यानी दुर्लभ संयोग बना है.


पंचांग के मुताबिक़, अष्टमी तिथि 29 अगस्त को रात्रि 10 बजकर 10 मिनट पर लग जाएगी. ऐसे में इस बार की जन्माष्टमी पर बन रहे इन कई विशिष्ट संयोगों के कारण बेहद खास है. ऐसी मान्यता है कि ऐसे विशिष्ट योग में जन्माष्टमी की पूजा विधि-विधान पूर्वक करने पर भगवान कृष्ण की भक्तों पर अपार कृपा होती है. इससे भक्तों की सारी मनोकामनायें पूर्ण होती हैं.

इस अद्भुत संयोग से तीन जन्मों के पाप से मिलेगी मुक्ति

ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक, निर्णय सिंधु नामक ग्रंथ के अनुसार जन्माष्टमी पर जब कभी ऐसे संयोग बनते हैं तो भक्तों को इस मौके को हाथ से जाने नहीं देना चाहिए. ऐसी धार्मिक मान्यता है कि इस संयोग में जन्माष्टमी व्रत रखकर श्रीकृष्ण की पूजा करने से तीन जन्मों के जाने-अनजाने में हुए पापों से मुक्ति मिलती है.

तुलसी की माला पहनने से बदल जाएगी आपकी जिंदगी, हर तरफ से मिलते हैं शुभ समाचार

संतान प्राप्ति के लिए भी शुभ है इस जन्माष्टमी का व्रत

इसके साथ ही अगर कोई जातक इस दुर्लभ संयोग में पड़ी इस जन्माष्टमी पर व्रत रखता है तो उसकी संतान प्राप्ति की इच्छा पूरी होती है. ऐसे में महिलाओं को इस दिन भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप गोपाल का पूजन कर पंचामृत से स्नान कर नए वस्त्र धारण कराकर गोपाल मंत्र का जाप करना चाहिए. इससे उन्हें यशस्वी दीर्घायु संतान की प्राप्ति होती है.

घर में गलती से भी न लगाएं ये पौधे, परिवार पर टूट पड़ता है मुसीबतों का पहाड़

First published: 30 August 2021, 8:58 IST
 
अगली कहानी