Home » खेल » Tokyo Olympics 2020: This state government played the biggest role behind the success of Indian hockey teams
 

Tokyo olympics 2020 : भारतीय हॉकी टीमों की सफलता के पीछे इस राज्य सरकार ने निभाई सबसे बड़ी भूमिका

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 August 2021, 7:01 IST

Tokyo Olympics 2020 : ओलंपिक सेमीफाइनल में पहुंचकर भारत की महिला और पुरुष हॉकी टीमों इतिहास रच दिया है. भारत की इस सफलता के पीछे ओडिशा का एक विशेष महत्व है, जो खेल के समर्थन में सबसे आगे रहा है. ओडिशा से न केवल पुरुष और महिला टीमों के वर्तमान उप-कप्तान हैं, बल्कि राज्य ने पिछले कुछ वर्षों में कई राष्ट्रीय स्तर के हॉकी खिलाड़ी तैयार किए हैं और बुनियादी ढांचे को विकसित करने और राष्ट्रीय टीमों को स्पांसर करने के लिए कदम बढ़ाया है.

जब 2018 में राज्य सरकार ने सहारा की जगह भारतीय राष्ट्रीय हॉकी टीमों (पुरुष / महिला, जूनियर / सीनियर) को पांच साल के कार्यकाल के लिए प्रायोजित करने का फैसला किया, तो यह पहली बार था जब किसी राज्य सरकार ने एक राष्ट्रीय टीम को स्पॉंसर करने का फैसला किया था. . इसके लिए सरकार ने 150 करोड़ रुपये देने का वादा किया था.


राज्य सरकार ने एक बयान में कहा “राज्य सरकार भागीदारी जारी रखना और टीमों को सर्वोत्तम सुविधाएं प्रदान करना चाहेगी. इसका मुख्य उद्देश्य भारतीय हॉकी के गौरव को वापस लाना है. भारतीयों का हॉकी से भावनात्मक जुड़ाव है, जिसे देश का राष्ट्रीय खेल माना जाता है.

राज्य ने पिछले पांच वर्षों में प्रमुख टूर्नामेंटों की मेजबानी की है. इसने 2018 में विश्व कप, 2014 चैंपियंस ट्रॉफी और 2017 में हॉकी वर्ल्ड लीग फाइनल की मेजबानी की. यह भुवनेश्वर और राउरकेला में खेले जाने वाले 2023 पुरुष हॉकी विश्व कप का भी मेजबान है.

पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान और हॉकी प्रमोशन काउंसिल के अध्यक्ष दिलीप तिर्की ने कहा “न केवल भारत में, बल्कि विश्व मंच पर भी, एक राज्य के लिए एक खेल को आगे बढ़ाने और समर्थन करने के लिए ओडिशा का बहुत बड़ा योगदान है.“

 

 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए इस वर्ष मार्च में राज्य मंत्रिमंडल ने कलिंग स्टेडियम, भुवनेश्वर में बुनियादी ढांचे के विकास और राउरकेला में अंतर्राष्ट्रीय हॉकी स्टेडियम के निर्माण के लिए अनुमानित लागत 356.38 करोड़ पर 'राज्य स्तरीय खेल अवसंरचना विकास परियोजना' को मंजूरी दी. राउरकेला स्टेडियम भारत में सबसे बड़ा होगा, जिसमें 20,000 बैठने की क्षमता होगी.

2018 में टाटा समूह के सहयोग से राज्य सरकार ने कलिंग स्टेडियम में एक हॉकी उच्च प्रदर्शन केंद्र की स्थापना की. इसके 12 केंद्र भी हैं, जिनमें 2,500 से अधिक युवा प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षित किया जा रहा है.

राज्य के 20 खेल छात्रावासों में से दो सुंदरगढ़ में हॉकी को समर्पित हैं. राज्य सरकार अब जिले के सभी 17 प्रखंडों में 17 एस्ट्रो टर्फ लगाने का काम कर रही है.

Tokyo Olympics: हॉकी के सेमीफाइनल में बेल्जियम को पटखनी दे सकता है भारत, ये पांच कारण कर रहे इशारा

First published: 3 August 2021, 6:59 IST
 
अगली कहानी